शुक्रवार, 14 अक्तूबर 2011

प्यार





मैं तो कलाम-ए-इश्क़ का व्यापार करता हूँ
खुद भी बीमार हूँ, सबको बीमार करता हूँ 

मुझको दे जाता है वो शख्स हमेशा ही धोखा 
फिर भी भरोसा मैं उसका बार-बार करता हूँ 

देगी तू मौत मुझे इक तो दिन थक करके  
ज़िंदगी इतना तो तुझपे एतबार करता हूँ 

मेरा जनाज़ा न उठाओ उनको ज़रा आने दो 
दो घड़ी और रुक के उनका इंतज़ार  करता हूँ 

वो पूछते हैं, "प्यार करते हो कितना हमसे "
कम ही होगा जो कहूँ बेशुमार करता हूँ 

कैसे मैं छोड़ दूँ घर बार सब तेरी खातिर 
तुझसे ही नहीं माँ से भी प्यार करता हूँ  

9 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर रचना के लिए बधाई स्वीकार करें.

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपका बहुत बहुत शुक्रिया .....:)

    उत्तर देंहटाएं
  3. tujhse hi nahi maa se bi pyar karta hoon...lajab panktiya..behtarin geer..sadar badhayee aaur amantran ke sath

    उत्तर देंहटाएं
  4. Isakaa Bukhaaar Sar Chadha Gyaa Hai..,
    Doctor Ko Dikhaao Koi.....

    उत्तर देंहटाएं

लोकप्रिय पोस्ट