शनिवार, 27 नवंबर 2010

वो पागल है ?

क्या वो पागल है, जो बेवजह मुस्कुराता है ?
पागल ही है, तभी सरे राह गुनगुनाता है |
अपनी ही धुन में वो गली गली घूमता है |
राह चलते जानवरों को तो कोई पागल ही चूमता है |
वो राहगीर है, उसका कोई घर बार बही है |
उसे किसी का, किसी को उसका इंतजार नहीं है |
बिना खाए पिए भी दिन रात मुस्कुराता है |
ऐसे ही इंसान को तो पागल कहा जाता है |
क्या वो पागल है........

हर तरफ आग है, है हर ओर बस नफरत का धुंआ,
एक दूजे कि जाँ ले रहे हैं हिन्दू मुसलमाँ |
पर उसे फर्क नहीं, वो तो मुस्कुराता है |
जलते चौराहों पर वो नाचता और गाता है |
खिड़की से देख उसे, मैं घबराता हूँ |
दरवाजा खोल, दौड़ उसके पास जाता हूँ |

पूँछता हूँ की क्यों खुश है ? कैसा इंसान है तू ?
ये बता हिन्दू है या कि मुसलमान है तू ?
ये सुनकर के वो और मुस्कुराता है ,
जवाब देकर वो हँसता और आगे बढ़ जाता है |
कहता है- "ना मै हिन्दू हूँ, ना हूँ मुसलमान मै |
 इन वहशियों कि बस्ती में हूँ इकलौता इंसान मैं |
  ये सब हो गए हैं देखो ना बिलकुल पागल |"
इतना कहकर के बढ़ गया आगे वो पागल |
उसको सुन कर के मैं सोच में पड़ जाता हूँ ,
"कौन पागल है ?" खुद से पूँछता लौट आता हूँ....

"कौन पागल है ?".......

23 टिप्‍पणियां:

  1. "कौन पागल है ?"
    SHAAYAD HUM HI PAAGAL HAIN....
    SUNDAR RACHNA...

    उत्तर देंहटाएं
  2. कुछ ऐसी ही एक गद्य रचना किसी ब्लॉग पर पढ़ी थी....विचर समान थे किन्तु काव्य रूप में और सुन्दर लगा ....हृदय को झकझोरने वाली रचना .....
    बढ़ियाँ

    उत्तर देंहटाएं
  3. वो नहीं तू पागल है या फिर मैं?
    वरना दोनों तो हैं ही , पक्का .

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. वो नहीं तू पागल है या फिर मैं?
    वरना दोनों तो हैं ही , पक्का .

    उत्तर देंहटाएं
  9. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  10. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  11. बेटे ! मैंने इतनी टिपण्णी कर दी अब धन्यवाद की टिपण्णी तू भी कर जा मेरे ब्लॉग पे .
    आगे तेरा काम पड़ेगा मुझसे .

    उत्तर देंहटाएं
  12. @शेखचिल्ली का बाप महोदय
    क्षमा करें आपकी टिप्पणियाँ निकालनी पड़ी...किन्तु मै यहाँ व्यापार नहीं कर रहा हूँ...

    उत्तर देंहटाएं
  13. अच्छी प्रस्तुति लगी, सामयिक।

    उत्तर देंहटाएं
  14. पूँछता हूँ की क्यों खुश है ? कैसा इंसान है तू ?
    ये बता हिन्दू है या कि मुसलमान है तू ?
    ये सुनकर के वो और मुस्कुराता है ,
    जवाब देकर वो हँसता और आगे बढ़ जाता है |
    कहता है- "ना मै हिन्दू हूँ, ना हूँ मुसलमान मै |
    इन वहशियों कि बस्ती में हूँ इकलौता इंसान मैं |
    bahut sunder.

    उत्तर देंहटाएं
  15. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  16. अजी सही है ... आज तो सोच समझ वाले ही पागल है ... थोडा पागलपन मिल जाए तो शायद समाज में शांति लौट आये ...

    उत्तर देंहटाएं
  17. आप सभी की हौसलाफजाई के लिए धन्यवाद ......इससे और लिखने की प्रेरणा मिलती है
    प्रेम बनाये रखे|

    उत्तर देंहटाएं

लोकप्रिय पोस्ट