मंगलवार, 21 दिसंबर 2010

उम्मीद

हर रोज़ सवेरे उठता हूँ,
खिड़की से बाहर तकता हूँ,
सोचता हूँ -
पौधों में कली लगी होगी,
अपनी बगिया भी सजी होगी,
हर तरफ फिजा छाई होगी |
और शायद तू आई होगी |
पर ये हवा बहार नहीं लाती है,
हर रोज़, तू नहीं आती है |

हर शाम मैं छत पर चढ़ता हूँ,
और लाख उम्मीदें गढ़ता हूँ |
सोचता हूँ -
ये आकाश आज गुलाबी होगा,
मौसम भी आज शराबी होगा |
हर ओर मदहोशी छाई होगी,
और शायद तू आई होगी |
पर उम्मीदें धोखा खाती हैं |
हर शाम तू नहीं आती है |

कल रात पवन कुछ यूँ मंद चली,
चहक उठी मेरी सूनी सी गली |
मौसम भी शराबी होने लगा,
ओर बीज फिजा के बोने लगा |
मेरे संग एक परछाई थी,
कल सपने में तू आई थी |

कल सपने में तू आई थी |

10 टिप्‍पणियां:

  1. गहराई से लिखी गयी एक सुंदर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  2. शब्द जैसे ढ़ल गये हों खुद बखुद, इस तरह कविता रची है आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर कविता ......शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  4. गहराई से हर एक भाव को उतरा है आपने ...धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  5. कितनी खूबसूरती से उतार दिया सबकुछ शब्दों में...
    सारी सोच, सारे मोहब्बत सिर्फ उसके लिए... जो आई थी कल रात सपनों में...
    बहुत ही प्यारी कविता है...

    उत्तर देंहटाएं

लोकप्रिय पोस्ट