मंगलवार, 12 जुलाई 2011

जवाब


ऐ खुदा ! इस बार तो मेरे ख़त का जवाब आ जाये
कागज़ के पैमाने में उनकी 'हाँ' की शराब आ जाये
ये मेरा वीराना भी हो जायेगा इक दिन गुलशन,
बस इक बार यहाँ वो हसीं गुलाब आ जाए

वो गुजरे भी मेरी गली से तो, पर्दा करके
कभी तो चेहरा वो, नज़र बेनकाब आ जाए

चांदनी रातो में भी मेरी दुनिया अँधेरी है
कभी मेरी छत पे भी तो महताब आ जाये

मैं फ़कीर-ए-इश्क खड़ा हूँ कब से दर पे
इक बार तो बाहर वहाब आ जाये

ऐ खुदा ! इस बार तो मेरे ख़त का जवाब आ जाये |

7 टिप्‍पणियां:

  1. इतनी बेहतरीन गजल लिखिएगा तो जबाब आ ही जएगा... खूब

    उत्तर देंहटाएं
  2. इन्तेज़ार और थोडा इन्तेज़ार ... ये हसीनों को अदा है इन्तेज़ार कराने की .. जवाब जरूर आएगा ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा मंच

    उत्तर देंहटाएं
  4. रंजना जी, दिलबाग जी, दिगंबर जी और चन्द्र भूषण जी ....बहुत बहुत शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं

लोकप्रिय पोस्ट