सोमवार, 22 नवंबर 2010

सपने

ज़िन्दगी का ताना बाना बुनता है मिटाता है मन,
खुद के रचे इस इन्द्रजाल में खुद ही उलझ सा जाता है मन |
अपने जिन ख्वाबों का सिर पर ताज पहन कर तनता था ये,
आज उन्ही सपनों का बोझा क्यूँ कर ना सह पता है मन |
ज़िन्दगी का ताना बाना.....


कुछ सपनो की चादर ओढ़े, कहीं दुबक कर बैठा था बचपन |
अपने जिन सहज सरल सपनों को , उँगलियों पर गिनता था बचपन |
अपने सपनों की राहों पर रोज़ घूमने जाता था ये ,
आज उन्ही राहों पर बढ़ने, से क्यों है कतराता ये मन |
ज़िन्दगी का ताना बाना.....

 ज़िन्दगी का ताना बाना बुनता है मिटाता है मन |

6 टिप्‍पणियां:

  1. कुछ सपनो की चादर ओढ़े, कहीं दुबक कर बैठा था बचपन |
    अपने जिन सहज सरल सपनों को , उँगलियों पर गिनता था बचपन |
    इन पंक्तियों ने दिल छू लिया................ बहुत सुंदर ....रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  2. ज़िन्दगी का ताना बाना बुनता है मिटाता है मन,
    खुद के रचे इस इन्द्रजाल में खुद ही उलझ सा जाता है मन |
    kya baat kahi hai vikram bhai
    man to manmauji ji hai.......
    jane kya kya .inderjal bunta hai............
    तिलयार में छाया ब्लॉगरों का जादू .............संजय भास्कर

    उत्तर देंहटाएं
  3. very gud..........u made me nostalgic about my childhood dreams...thanx 4 d post

    उत्तर देंहटाएं
  4. बचपन के सपनों को सुन्दरता से उकेरा है आपने....जाने क्यों बड़े होने क बाद हम उन सहज सरल सपनो को भूल जाते है???

    भावुकता से भरी पोस्ट.....बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  5. अपने सपनों की राहों पर रोज़ घूमने जाता था ये ,
    आज उन्ही राहों पर बढ़ने, से क्यों है कतराता ये मन |
    waaaaaah

    उत्तर देंहटाएं

लोकप्रिय पोस्ट